सीमा हैदर

सीमा हैदर

पाकिस्तानी सीमा हैदर के मामले की जांच कर रही केन्द्रीय जांच एजेंसियों को पुख्ता जानकारी मिली है की नेपाल से भारत आने में किसी तीसरे शख्स की मदद से पूरी तैयारी करवाने के बाद ही सीमा हैदर को भारतीय सीमा के अंदर दाखिल करवाया गया था.

खुफिया एजेंसी के अनुमान के मुताबिक, सीमा हैदर ने बाकायदा पूरी ट्रेनिंग के साथ अपना ड्रेसअप अपना हुलिया इस तरीके से किया था कि वह ग्रामीण परिवेश की भारतीय महिला लगे, और किसी को शक न हो की वे किसी बाहर के देश से आयी हुई महिला है और इसका मेकअप करने के लिए पेशेवर लोगों की मदद ली गई थी.

भारतीय सुरक्षा एजेंसियों की पैनी नजरों से बचने के लिए उसने अपने कथित बच्चों को भी इसी तरीके से मेकओवर कर के अछेसे ड्रेस अप किया था की जांच एजेंसियों को इन पर शक न हो, सुरक्षा एजेंसियों का कहना है की ऐसा तरीका ज्यादातर जिस्मफरोशी करने वाले लोग और ह्यूमन ट्रैफिकिंग यानि या जिस्मफरोशी के रैकेट में शामिल महिलाएं और उन्हें ट्रैनिंग देने वाले गिरोह भारत नेपाल सीमा पार करने के लिए ये ही तरीका इस्तेमाल करते हैं.

सीमा हैदर
सीमा हैदर

पूरी तैयारी के साथ ही PAK से आई थी सीमा हैदर

इसके अलावा सीमा हैदर जिस तरह से धाराप्रवाह हिंदी भाषा में लगातार बात कर रही है इस तरह की ट्रेनिंग नेपाल में मौजूद पाकिस्तानी हैंडलर उन महिलाओं को देते हैं जिनको वे नेपाल से बार्डर क्रॉस कराकर भारत में गैरकानूनी तरीके से अंदर लाकर आपराधिक गतिविधियों को अंजाम देने के लिए भेजा जाता है.

भारतीय खुफिया जांच एजेंसियों की जांच के दायरे में अब बहोत से ऐसे एजेंट भी हैं जो इस तरीके को अपनाके महिलाओ की खास तैयारी कराते हैं और भारत में अवैध तरीके से लोगों को पहुंचाते है

खुफिया एजेंसियों के मुताबिक, भारत से नेपाल की सीमा पर 13 मई को सीमा हैदर और सचिन मीणा के भारत में दाखिल होने के दावों की पुष्टि फिलहाल केन्द्रीय एजेंसियों की जांच में नहीं हो पाई है, और दोनों ही भारत में पहुंचने का यही दिन बता रहे हैं.

सीमा हैदर
सीमा हैदर

सीमा हैदर के प्रकरण की जांच कर रही भारतीय एजेंसियों के मुताबिक 13 मई को भारत नेपाल सीमा से सटी सुनौली सेक्टर और सीतामढ़ी सेक्टर में अब तक थर्ड नेशन सिटीजन के मौजूदगी से सम्बंधित कोई जानकारी अभीतक सामने नहीं आई है. भारत और नेपाल की सीमा पर दोनों जगहों पर सीमा हैदर और सचिन का भारत में पहुंचने का दावा किया जा रहा है, इसी वजह से यहां मौजूद रिकॉर्ड और सीसीटीवी फुटेज की जांच की गई है.

भारत से सटे नेपाल की सीमा के सारे बस रूट पर 13 मई को हर गुजरने वाली बसों के सीसीटीवी के फुटेज की जाँच पड़ताल की जा रही है जिसका विवरण सीमा हैदर और सचिन ने दिया था .

सीमा हैदर
सीमा हैदर

भारत और नेपाल में मैत्री समझौता होने के वजह से इन दोनों देशों के अलावा और कोई किसी भी तीसरे देश का नागरिक यहां पर आता है तो इनके आने की सूचना यहां पर मौजूद दोनों एजेंसियों के साथ में स्थानीय पुलिस को भी तुरंत देनी होती है, और भारतीय एजेंसियां अपनी जांच शुरू कर देती है.

और इसके अलावा खास मल्टी टास्किंग फोर्सेज जिसमें इमीग्रेशन, सशस्त्र सीमा बल,आईबी, कस्टम, फारेस्ट डिपार्टमेंट, और यूपी पुलिस के साथ बिहार पुलिस के भी सदस्य शामिल रहते हैं, सारी जाँच एजंसियों ने भी अपनी रिपोर्ट केन्द्रीय जांच एजेंसियों को सौंपी है और कहा है कि 13 मई के दिन किसी तीसरे देश के नागरिक को भारत नेपाल सीमा पर नहीं देखा गया था .

इसके बाद भारत और नेपाल की सीमा पर स्थित चारों आईसीपी यानि इंटीग्रेटेड चेक पोस्ट के सारे रिकार्ड की जांच हो रही है और देखा जा रहा है की कि कहीं उन जगहों से तो थर्ड नेशन सिटिजन प्रवेश तो नहीं हुवा, जिसमें बहराइच,सुनौली, और रकसौल मुख्य रूप से शामिल हैं.

रिलायंस-जेएफएसएल डिमर्जर के बाद जियो फाइनेंशियल सर्विसेज का शेयर मूल्य एनएसई पर 273 ₹ पर सूचीबद्ध होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *